मैं और उनकी तन्हाई

मैं और उनकी तन्हाई
मैं और उनकी तन्हाई

Follow by Email

Monday, March 31, 2014


वो अल्फ़ाज़ ही क्या जो समझाने पड़े हमने मोहब्बत की है,

 कोई डिक्शनरी नहीं लिखी ||

No comments:

Post a Comment