मैं और उनकी तन्हाई

मैं और उनकी तन्हाई
मैं और उनकी तन्हाई

Follow by Email

Sunday, July 29, 2012

कहानी मुसाफिर कि....

कहानी मुसाफिर कि
मुसाफिर बनकर इस दुनिया मे आते हैं,
तो क्यूँ किसी से दिल लगाते हैं,
किसी अजनबी को अपना बनाते हैं,
अकेले ही आते हैं इस दुनिया मे ,
इस दुनिया से अकेले ही जाते हैं,
तो फिर साथ जीने मरने का कसमे क्यूँ खाते हैं|
दोश्ती,मोहबत,नफ़रत,परिवार,
सब यही तो पाते हैं|
एक समय बाद सबको छोड़कर चले जाते हैं,
तो फिर क्यूँ,
बिछड़ने के बाद आंशु बहाते हैं|
जानते हैं मुसाफिर आते हैं,
हंसते हैं हँसातेहै|
सुख दुख मे साथ  निभाते हैं|
एक दिन सबको छोड़कर चले जाते हैं,
तो फिर क्यूँ ,
तो क्यूँ उनसे नयन लड़ाते हैं,
दिल मे उनको बासाते हैं|
जब वो छोड़कर चले जाते हैं|
तो बेबफा का इल्ज़ाम लगाते हैं|
इलज़ाम लगाने वाले,
एक हक़ीकत भूल जाते हैं,
वो भी एक मुसाफिर हैं,
खुद एक दिन सबको छोड़कर  चले जाते हैं|
तो फिर क्यूँ,
किसी पे ग़लत इलज़ाम लगाते हैं|
खुद ही बेबफ़ाई करते हैं,
दूसरो को बेबफा बताते हैं|
खुद भी सारे सफ़र मे रोते हैं,
और दूसरो को भी रुलाते हैं|
दिल हमारे नॅशवार शरीर का हिस्सा हैं,
और प्यार एहसास |
तो फिर क्यूँ,
दिल तोड़ने का इलज़ाम,
प्यार करने वाले पे लगाते हैं|
बिछड़ने का एहसास तो,
सभी को होता हैं,
ये तो सभी को तड़पाते हैं|
पर मुसाफिर को तो जाना है|
इसलिए साथ मे यादे लेकर चले जाते हैं,
और यादे ही छोड़ जाते हैं,
वो जो साथ ले जाते हैं,
वही हमारे पास भी छोड़ जाते हैं|
तो फिर क्यूँ,
हमेशा उनको धोखेबाज, बेबफा आदि नामो से बुलाते हैं|
आख़िर क्यूँ...क्यूँ...क्यूँ...||

             एक मुसाफिर-विजय कुमार




9 comments:

  1. बहुत बढ़िया ...
    ऐसे ही लिखते रहिए ...

    ReplyDelete
  2. खाली हाथ आयें हैं खाली हाथ जायेंगे ,अच्छी बुरी साथ ले जायेंगे ..बढ़िया रचना है
    तो फिर साथ जीने मरने का कसमे क्यूँ खाते हैं|
    दोश्ती,मोहबत,नफ़रत,परिवार,
    सब यही तो पाते हैं|
    जीने मरने की "कसमें" कर लें/यही को यहीं कर लें ...एक आदि ओर स्थान पर अनुस्वार (बिंदी )छूट गई है .
    खाली हाथ आयें हैं खाली हाथ जायेंगे ,अच्छी बुरी साथ ले जायेंगे ..बढ़िया रचना है
    तो फिर साथ जीने मरने का कसमे क्यूँ खाते हैं|
    दोश्ती,मोहबत,नफ़रत,परिवार,
    सब यही तो पाते हैं|
    जीने मरने की "कसमें" कर लें/"यही" को "यहीं" कर लें ...एक आदि और स्थान पर अनुस्वार (बिंदी )छूट गई है .जहां "मे" है वहां "में" आयेगा ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद..आगे से इस ग़लती को सुधारने की कोशिश करूँगा...

      Delete
  3. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete